Tuesday, May 12, 2015

For the good days ahead (जो होता अच्छे के लिए ही होता है)


यादों के पन्ने जब पल्टे, पाए कभी मीठे, कभी खट्टे 

दुखी तो तब हुआ दिल, जब रूबरू हुए फिर वह कड़वे पल 


आँखें फिर हुई  नम, मन को हुआ गम 
समझाया फिर से खुदको, काम ना आएगा वह दर्द 

अधूरे ख्वाब, अधूरी कहानी फिरसे हताश ना करेगी अब हमे 
क्यूंकि समझ आ गयी इस दिल और गवाए समय की महत्वता हमे 

जो हुआ, कुछ था अपने हाथ औ' कुछ किस्मत के अंजान इशारे में
पर ज़िन्दगी चलती है, होटों के मुस्कुराने से 

क्यूंकि कहते हैं ना, जो होता अच्छे के लिए ही होता है !!


~ For the good days ahead!





In Romanagiri:

Yaadon ke panne jab palte, paye kabhi meethe, kabhi khatte
Dukhi toh tab hua dil jab rubaroo huye fir woh kadwe pal

Aankhein fir huyi namm, mann ko hua gamm
Samjhaya firse khudko, kaam na aayega woh dard

Adhoore khwaab, adhoori kahani fir se hataash na karegi ab hume
Kyunki Samajh aa gayi is dil aur gawaye samay ki mahatvata hume

Jo hua kuch tha ape haath aur kuch kismat ke anjaan ishaare mein

Per zindagi chalti hai, hoton ke muskuraane se

Kyunki Kehte hain na, jo hota hai achche ke liye hi hota hai!!


Cheers!

No comments:

Post a Comment